जन्म के आधार पर जाति-व्यवस्था: मनगढ़ंत और बेबुनियाद

जन्म के आधार पर जाति-व्यवस्था: मनगढ़ंत और बेबुनियाद

0
2199

मूल रूप से तमिल भाषा में लिखित अपने लेख में के० वी० मुरली, जन्म के आधार पर जाति-व्यवस्था के कथन को बेतुका सिद्ध करने के लिए एक साधारण गणितीय सूत्र देते हैं। आओ उनके तर्क को संक्षिप्त रूप में समझतें हैं।

यदि आज 125 करोड़ भारतीयों में से प्रत्येक के लिए इस तरह के 1,048,576 पूर्वजों को जोड़ते हैं तो हम 20 पीढ़ियों से पहले जनसंख्या के बेतुके स्तर पर पहुंचेंगे।

हर व्यक्ति का जन्म 2 माता-पिता, 4 दादा-दादी, 8 परदादा-परदादी और इसी तरह द्विआधारी अनुक्रम में 2 की शक्ति के रूप में व्यक्त किया जाता है। इस श्रृंखला में, अगर किसी को 20 पीढ़ियों को प्राप्त करने वालों में शामिल लोगों की संख्या देखना है, तो संख्या 2 की शक्ति 20 है, जो 1,048,576 पूर्वजों (माता-पिता) है।

यह एक बेतुकी संख्या नहीं है? क्या यह संख्या जन्म के आधार पर जाति व्यवस्था के प्रस्ताव को असत्य घोषित नहीं करती है?

यदि आज 125 करोड़ भारतीयों में से प्रत्येक के लिए इस तरह के 1,048,576 पूर्वजों को जोड़ते हैं तो हम 20 पीढ़ियों से पहले जनसंख्या के बेतुके स्तर पर पहुंचेंगे।

यह वंशावली पतन की गणितीय वास्तविकता है इस प्रकार, 20 पीढ़ी पहले, हमारे पूर्वजों सभी साथी, संज्ञानात्मक, सह-पार्षद, राजनीतिज्ञ, रिश्तेदार, रिश्तेदार थे।

निष्कर्ष: जन्म-आधारित जाति प्रणाली एक झूठा कथन है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.