काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के तीन विद्यार्थी वैश्विक प्रबंधन कार्यक्रम के लिए जाएंगे जापान

इस कार्यक्रम के अंतर्गत इन विद्यार्थियों को अंतरराष्ट्रीय बाजार के विशेषज्ञों से संवाद का अवसर प्राप्त होगा, जिससे वैश्विक स्तर पर उद्योग व बाजार के बारे उनकी समझ और बेहतर होगी।

0
173
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के तीन विद्यार्थी वैश्विक प्रबंधन कार्यक्रम के लिए जाएंगे जापान
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के तीन विद्यार्थी वैश्विक प्रबंधन कार्यक्रम के लिए जाएंगे जापान

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के तीन छात्रों को मिला वैश्विक प्रबंधन कार्यक्रम के तहत जापान जाने का अवसर

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के तीन विद्यार्थी अंतरराष्ट्रीय बाजार व उद्योग परिदृश्य को समझने के लिए वैश्विक प्रबंधन कार्यक्रम के तहत जापान जाएंगे। यहां उन्हें बाजार व उद्योग विशेषज्ञों के साथ सत्रों में भागीदारी का अवसर प्राप्त होगा। इस कार्यक्रम के लिए ऐश्वर्य राजपूत (एमबीए, प्रथम वर्ष – प्रबंध शास्त्र संस्थान), जयश्री भट्ट (एम.ए., मनोविज्ञान – सामाजिक विज्ञान संकाय) तथा श्रेयस जायसवाल (एमबीए, प्रथम वर्ष – प्रबंध शास्त्र संस्थान) का चयन किया गया है।

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के मुताबिक इस कार्यक्रम के अंतर्गत इन विद्यार्थियों को अंतरराष्ट्रीय बाजार के विशेषज्ञों से संवाद का अवसर प्राप्त होगा, जिससे वैश्विक स्तर पर उद्योग व बाजार के बारे उनकी समझ और बेहतर होगी। वैश्विक प्रबंधन कार्यक्रम, हाल ही में काशी हिन्दू विश्वविद्यालय तथा विश्व की तीसरी सबसे बड़ी एवं जापान की प्रमुख वस्त्र निमार्ता कंपनी फास्ट रीटेलिंग कंपनी लिमिटेड के बीच हुए समझौते का एक अत्यंत महत्वपूर्ण अंग है। जापान में इस कार्यक्रम के लिए सभी व्यवस्थाएं फास्ट रीटेलिंग कंपनी लिमिटेड के प्रमुख ब्रांड्स में से एक यूनिक्लो द्वारा की जाएंगी। ये कार्यक्रम जुलाई 2022 में जापान में संभावित है।

इस कार्यक्रम के लिए चयनित विद्यार्थियों को शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए अंतरराष्ट्रीय सहयोग, काशी हिन्दू विश्वविद्यालय, के समन्वयक प्रो. एन. वी. चलपति राव ने कहा कि विश्वविद्यालय एवं फास्ट रीटेलिंग कंपनी लिमिटेड के साथ हुए समझौते से बीएचयू के विद्यार्थियों के लिए अनेक अंतरराष्ट्रीय अवसरों के मार्ग प्रशस्त होंगे।

वहीं जामिया मिल्लिया इस्लामिया की एक पूर्व छात्रा उज्मा खान को 6 प्रतिष्ठित अमेरिकी विश्वविद्यालयों से पूरी तरह से वित्त पोषित पीएचडी करने के ऑफर मिले हैं। उन्होंने वर्ष 2021 में एप्लाइड साइंसेज विभाग, इंजीनियरिंग एवं प्रौद्योगिकी संकाय, जामिया से एमएससी इलेक्ट्रॉनिक्स कोर्स किया है। उज्मा ने नौ अमेरिकी विश्वविद्यालयों में 100 प्रतिशत फैलोशिप के लिए आवेदन किया था और इनमें से 6 ऑफर प्राप्त हुए हैं। उनका शोध क्षेत्र ‘अंडरवाटर वायरलेस कम्युनिकेशन एंड सिग्नल प्रोसेसिंग‘ होगा।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.