तमिलनाडु से टेरर फंडिंग जुटाने में लगा आतंकी संगठन लिट्टे; कई जगह हथियारों की अवैध फैक्ट्री बनाई!

श्रीलंका में वित्तीय संकट खड़ा होने के बाद लिट्टे ने अपने ऑपरेशन्स भारत में शिफ्ट कर लिए हैं।

0
74
तमिलनाडु से टेरर फंडिंग जुटाने में लगा आतंकी संगठन लिट्टे
तमिलनाडु से टेरर फंडिंग जुटाने में लगा आतंकी संगठन लिट्टे

तमिलनाडु में पैर पसारने में लगा लिट्टे

श्रीलंका में वित्तीय संकट के बाद आतंकी संगठन लिट्टे तमिलनाडु में अपनी पैठ मजबूत करने में जुटा है। इसके लिए उसने तमिलनाडु में कई जगह हथियारों की अवैध फैक्ट्री बनाए हैं। जांच एजेंसियों को इस मामले में अहम इनपुट हाथ लगे हैं। अब टेरर फंडिंग के लिए लिट्टे तमिलनाडु के कई बड़े राजनेताओं और बिजनेसमैन को टारगेट बनाने की फिराक में है।

नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) को इस बारे में इनपुट मिले हैं। इसे लेकर ही बीते दिनों कई जगहों पर छापेमारी की गई थी। सूत्रों के मुताबिक, तमिलनाडु पुलिस ने 19 मई को सलेम जिले के सेवापेट से 2 युवकों नवीन मुत्थू और संजय प्रकाश को पकड़ा था। इनके पास से दो पिस्तौल, गन पाउडर, हथियार व विस्फोटक बनाने का सामान बरामद किया था। जांच में पता चला कि दोनों ही युवक आतंकी संगठन लिट्टे के लिए काम कर रहे थे। इसके बाद मामला एनआईए को सौंपा गया। एनआईए ने 25 जुलाई को दोनों के खिलाफ केस दर्ज कर जांच शुरू की थी।

जब एनआईए ने दोनों से पूछताछ की तो लिट्टे के मंसूबों की जानकारी मिली। पता चला है कि श्रीलंका में वित्तीय संकट खड़ा होने के बाद लिट्टे ने अपने ऑपरेशन्स भारत में शिफ्ट कर लिए हैं। पहले जो हथियार सीमापार श्रीलंका में बनाए जाते थे, वे अब लोकल लोगों की मदद से तमिलनाडु में बनाए जा रहे हैं।

तमिलनाडु में छापेमारी के दौरान जंगल सर्वाइवल किट्स और जंगली बीज से तैयार होने वाला जहर भी मिला। लिट्टे अपने सदस्यों को जंगल में जीवित रहने की ट्रेनिंग दे रहा है। खास बीजों से बना जहर भी दिया जाता है। ताकि अगर किसी भी वजह से लिट्टे के सदस्य पुलिस या सुरक्षा जांच एजेंसी के हत्थे चढ़ जाते हैं तो वे इसे खाकर अपनी जान दे सकें।

लिट्टे तमिलनाडु में अपनी जड़े मजबूत करने के लिए एक खास तरह के ब्लूप्रिंट पर काम कर रहा है। लिट्टे के इस मॉड्यूल को भेदने के लिए एनआईए ने तमिलनाडु के सलेम और शिवागंगई में कई जगह छापेमारी की थी। इस दौरान 2009 में मारे जा चुके लिट्टे प्रमुख प्रभाकरण पर लिखी किताब, फोटो और कई आपत्तिजनक साहित्य मिले। उन्हें तमिलनाडु के कई बड़े राजनेताओं और बिजनेसमैन की एक लिस्ट मिली। कुछ ऐसे दस्तावेज भी मिले, जो यह दर्शाते थे कि लिस्ट में शामिल नेता लिट्टे की टारगेट लिस्ट में हैं।

[आईएएनएस इनपुट के साथ]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.