बंगाल में वंदे भारत ट्रेन पर पथराव; गेट और विंडो में आई दरार; पीएम ने 3 दिन पहले दिखाई थी हरी झंडी!

    पश्चिम बंगाल में नेता प्रतिपक्ष और भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने घटना को लेकर एनआईए जांच की मांग की है।

    0
    63
    बंगाल में वंदे भारत ट्रेन पर पथराव
    बंगाल में वंदे भारत ट्रेन पर पथराव

    पश्चिम बंगाल में उद्घाटन के 3 दिन बाद ही वंदे भारत पर हमला

    पश्चिम बंगाल के मालदा में सोमवार रात वंदे भारत ट्रेन पर पथराव किया गया है। घटना कुमारगंज रेलवे स्टेशन के पास की है। जानकारी के मुताबिक ट्रेन रविवार को न्यू जलपाईगुड़ी से खुली थी। हावड़ा आने के दौरान मालदा स्टेशन के पास अज्ञात लोगों ने ट्रेन पर पत्थरबाजी शुरू कर दी। जिसके चलते कोच सी-13 का गेट और विंडो क्षतिग्रस्त हो गया। वहीं, पश्चिम बंगाल में नेता प्रतिपक्ष और भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने घटना को लेकर एनआईए जांच की मांग की है।

    बता दें कि पीएम मोदी ने 4 दिन पहले पश्चिम बंगाल की पहली वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई थी। बंगाल की सीएम ममता बनर्जी भी इसमें शामिल हुई थीं। ममता के कार्यक्रम में पहुंचते ही हावड़ा स्टेशन पर जबरदस्त ड्रामा भी हुआ था। इसके कुछ दिनों बाद यह घटना सामने आई है।

    घटना पर बंगाल भाजपा ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। नेता प्रतिपक्ष ने इसे टीएमसी की साजिश बताया है। शुभेंदु अधिकारी ने ट्वीट किया- यह घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में भारत के गौरव वंदे भारत एक्सप्रेस पर पथराव हुआ। क्या यह उद्घाटन के दिन ‘जय श्री राम‘ के नारों का बदला है? मैं पीएम मोदी और रेल मंत्रालय से इस मामले में एनआईए जांच करने की मांग करता हूं।

    बता दें कि वंदे भारत के उद्घाटन के दौरान जब ममता मंच पर जा रही थीं, तब भीड़ से जय श्रीराम के नारे लगने लगे। हंगामे के दौरान ममता के साथ रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव समेत 4 केंद्रीय मंत्री भी इस दौरान मौजूद थे। इस पर ममता भड़क गईं और मंच पर बैठने से इनकार कर दिया। इसके बाद रेल मंत्री और राज्यपाल सी वी आनंद बोस ने ममता को मनाने की कोशिश की, लेकिन वे नहीं मानीं। हालांकि, बाद में ममता स्टेज के सामने दर्शक दीर्घा में कुर्सी लगाकर बैठ गईं। बाद में उन्होंने अपना संबोधन भी दिया।

    [आईएएनएस इनपुट के साथ]

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.