पाकिस्तान के 277 साल पुराने गुरुद्वारे को मुस्लिम कट्टरपंथियों ने मस्जिद बताया!

    शहबाज सरकार की शह पर मुस्लिम कट्टरपंथियों ने इवैक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड (ईटीपीबी) के साथ मिलकर लाहौर के लगभग 277 साल पुराने ऐतिहासिक शहीद भाई तारु सिंह गुरुद्वारे पर ताला जड़ दिया है।

    0
    102
    पाकिस्तान के 277 साल पुराने गुरुद्वारे को मुस्लिम कट्टरपंथियों ने मस्जिद बताया!
    पाकिस्तान के 277 साल पुराने गुरुद्वारे को मुस्लिम कट्टरपंथियों ने मस्जिद बताया!

    पाकिस्तान के मुस्लिम कट्टरपंथियों ने लाहौर के लगभग 277 साल पुराने ऐतिहासिक शहीद भाई तारु सिंह गुरुद्वारे पर ताला जड़ दिया

    पाकिस्तान में गर्वमेंट प्रोटेक्शन में अल्पसंख्यकों के धार्मिक अधिकारों के उल्लंघन का एक और मामला सामने आया है। शहबाज सरकार की शह पर मुस्लिम कट्टरपंथियों ने इवैक्यूई ट्रस्ट प्रॉपर्टी बोर्ड (ईटीपीबी) के साथ मिलकर लाहौर के लगभग 277 साल पुराने ऐतिहासिक शहीद भाई तारु सिंह गुरुद्वारे पर ताला जड़ दिया है। मौलाना पवित्र ऐतिहासिक गुरुद्वारे को मस्जिद बताकर इस पर कब्जा करने की फिराक में हैं।

    पाकिस्तान में रहने वाले सिखों में इस कार्रवाई को लेकर काफी गुस्सा है। उनका कहना है कि इस ऐतिहासिक गुरुद्वारे में रोज होने वाला गुरु ग्रंथ साहिब का पाठ थम गया है। इसमें काफी श्रद्धालु शामिल होते थे। पिछले कुछ समय से कट्टरपंथियों की ओर से गुरुद्वारे को बंद करने की धमकियां दी जा रही थीं। कट्टरपंथियों ने ईटीपीबी के साथ मिल गुरुद्वारे पर तालाबंदी की है।

    पाक सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अनुसार 1947 में यहां 20 लाख सिख थे, अब 20 हजार रह गए। यहां के 160 ऐतिहासिक गुरुद्वारों में से 20 के संचालन की अनुमति है।

    गुरुद्वारे की जगह पर 1745 में मुगलों से लड़ते हुए भाई तारु सिंह शहीद हुए थे। 1747 में यहां गुरुद्वारा बनकर तैयार हुआ था। अब मुस्लिम संगठनों के दबाव में पाकिस्तान सरकार ने गुरुद्वारे पर तालाबंदी की मंजूरी दी है।

    हिंदू भी खतरे में हैं। ऑल पाकिस्तान हिंदू राइट मूवमेंट के अनुसार विभाजन के समय 4280 में से अब 380 मंदिर ही रह गए हैं। यहां 3900 मंदिरों को तोड़ दिया गया है।

    इससे पहले गुरु नानक देव के प्रकाश पर्व पर पाकिस्तान गए सिख जत्थे को पाकिस्तान सरकार व पाकिस्तान सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (पीएसजीपीसी) के बद-इंतजामों के कारण दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जत्थे के ही एक सदस्य ने वीडियो बना आ रही दिक्कतों का संदेश भारत में भेजा है। शिरोमणि अकाली दल के प्रधान व वक्ता की तरफ से भी इस मुद्दे को उठाया गया है।

    [आईएएनएस इनपुट के साथ]

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.