गणतंत्र दिवस पर आईएसआईएस और अल-कायदा के साथ पाकिस्तान रच रहा भारत को दहलाने की साजिश!

    खुफिया एजेंसियों की गोपनीय रिपोर्ट में पता चला है कि पाकिस्तान की आईएसआई ने भारत में आतंकी हमले करवाने के लिए अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इरबाहिम के गुर्गों की मदद ली है।

    0
    25
    गणतंत्र दिवस के मौके पर आतंक का साया
    गणतंत्र दिवस के मौके पर आतंक का साया

    गणतंत्र दिवस के मौके पर आतंक का साया

    पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई, गणतंत्र दिवस के मौके पर आतंकवादी संगठनों अल-कायदा और इस्लामिक स्टेट के साथ मिलकर राजधानी दिल्ली, पंजाब समेत देश के अन्य कई शहरों में बड़े हमले करने की साजिश रच रही है। भारतीय खुफिया एजेंसियों ने इस संबंध में अलर्ट जारी किया है, जिसकी कॉपी मीडिया के हाथ लगी है। खुफिया एजेंसियों की गोपनीय रिपोर्ट में पता चला है कि पाकिस्तान की आईएसआई ने भारत में आतंकी हमले करवाने के लिए अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के गुर्गों की मदद ली है। भारत में होने वाले जी-20 समिट पर भी इस्लामिक स्टेट और अल-कायदा की नजर है।

    पाकिस्तान की मदद से इन आतंकी संगठनों की साइबर विंग, साइबरस्पेस पर काफी एक्टिव हो चुकी है और जी-20 समिट के दौरान बड़े साइबर हमले करने की फिराक में है। खुफिया रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान अपने स्लीपर सेल और अवैध रोहिंग्यों का इस्तेमाल कर 26 जनवरी के मौके पर दिल्ली और पंजाब में आईईडी ब्लास्ट करवा सकता है। इस रिपोर्ट के मुताबिक अल-कायदा के आतंकी ‘लोन वुल्फ अटैक’ के फिराक में हैं। अगर 26 जनवरी पर आतंकी हमले का प्लान फेल हुआ, तो जी-20 समिट के दौरान​ भारत के विभिन्न शहरों में आतंकी हमले करवाने की साजिश आईएसआई ने रची है।

    खुफिया रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान की आईएसआई ने इस बार दिल्ली और पंजाब को टारगेट करने के लिए अवैध रोहिंग्या, दो बांग्लादेशी आतंकी संगठनों अंसार-उल-बांग्ला और जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश का सहारा लिया है। मीडिया के हाथ लगे सुरक्षा एजेंसियों के इस बेहद संवेदनशील रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि पीएफआई पर प्रतिबंध लगने के बाद के, इसकी एक लो प्रोफाइल विंग फिर से एक्टिव हो सकती है और स्लीपर सेल की तरह गोरिल्ला अटैक को अंजाम दे सकती है। इस गोपनीय अलर्ट में यह भी खुलासा हुआ है कि प्रो-खालिस्तानी टेरर ग्रुप दिल्ली और पंजाब में किसी बड़ी वारदात को अंजाम दे सकते हैं। सुरक्षा एजेंसियों ने ‘दल खालसा’ और ‘वारिस पंजाब दे’ पर कड़ी नजर रखने की सलाह देते हुए कहा है कि ये दोनों संगठन देश का माहौल खराब की पुरजोर कोशिश में जुटे हैं।

    [आईएएनएस इनपुट के साथ]

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.