चीन में कोरोना के कहर से दुनिया में खौफ, भारत के लिए कितनी बड़ी चुनौती?

    बैठक के बाद लोगों से भीड़भाड़ में मास्क लगाने की सलाह दी गयी है। इसके अलावा लक्षण दिखने पर कोरोना का टेस्ट कराने को भी कहा गया है।

    0
    167
    चीन में कोरोना के कहर से दुनिया में खौफ, भारत के लिए कितनी बड़ी चुनौती?
    चीन में कोरोना के कहर से दुनिया में खौफ, भारत के लिए कितनी बड़ी चुनौती?

    चीन में बढ़ते कोरोना के मामलों से दुनिया भर में चिंताएं

    चीन समेत दुनिया के कई देशों में कोरोना के बढ़ते मामलों ने भारत की चिंता एक बार फिर बढ़ा दी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने बुधवार को विशेषज्ञों के साथ बैठक की और हालात का जायजा भी लिया और महामारी के असर को कम करने को लेकर रणनीति भी बनाई। बैठक के बाद लोगों से भीड़भाड़ में मास्क लगाने की सलाह दी गयी है। इसके अलावा लक्षण दिखने पर कोरोना का टेस्ट कराने को भी कहा गया है।

    कोरोना को लेकर चीन के हालात बयां करती तस्वीरें देखकर लोगों के मन मे कोरोना को लेकर एक बार खौफ हो गया है। बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने बड़े अधिकारियों और एक्सपर्ट्स साथ बैठक की। कोरोना की ज़मीनी हालात का जायज़ा लिया और रणनीति भी बनाई। मनसुख मांडविया ने कहा कि कोरोना अभी गया नहीं है। मैंने सम्बंधित अधिकारियों को अलर्ट रहने और निगरानी बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। हम किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं।

    स्वास्थ्य मंत्रालय अब हर हफ्ते कोरोना को लेकर समीक्षा बैठक करेगा। वहीं लोगों से भीड़भाड़ वाली जगह पर मास्क लगाने की सलाह दी है। कहा गया कि सर्दी खांसी वाले मरीज टेस्ट करवाने से परहेज़ न करें। अब तक 27% लोगों ने प्रिकॉशन डोज लिया है, जो बचे हैं टीका ज़रूर लें। सर्विलांस सिस्टम में और तेज़ी लाने की ज़रूरत है। देश के तमाम अस्पतालों में भर्ती निमोनिया के मरीजों की टेस्टिंग की जरूरत है। राज्यों से सभी पॉजिटिव मरीजों के सैंपल को जीनोम सीक्वेंसिंग में भेजने को कहा गया है ताकि किसी नए वेरिएंट की पहचान हो पाए।

    इस बैठक में शामिल नीति आयोग के सदस्य डॉ वी के पॉल ने कहा कि पैनिक होने की जरूरत नहीं है। मीटिंग में सबकी राय के बाद भीड़भाड़ में मास्क लगाने की सलाह दी गयी। हर हफ्ते स्वास्थ्य मंत्रालय में समीक्षा बैठक होगी। टेस्टिंग पर्याप्त मात्रा में हो रही है। बीच – बीच में स्वास्थ्य मंत्रालय निर्णय लेगा कि क्या और कदम उठाए जाने हैं। खांसी- जुकाम में टेस्टिंग करवा लीजिए। टेस्टिंग जहां जरूरत लगे करवाइए, टेस्टिंग बढ़ेगी तो हमें हालात की बेहतर जानकारी मिलेगी। गंभीर बीमारी और बुजुर्ग प्रिकॉशन डोज जरूर लें। उन्‍होंने कहा कि वैक्‍सीन हर कोई ले। प्रिकॉशन डोज अब तक करीब 27% लोगों ने ही लिया है। जो बचे हैं, वे जल्‍द ले लें। कोई नई गाइडलाइन फिलहाल नहीं है। हम लगातार नजर बनाए हुए हैं, जहां जरूरत लगी गाइडलाइन जारी करेंगे।

    चीन में बिगड़े हालात ने पूरी दुनिया को मैसेज दे दिया कि कोरोना गया नहीं है। लड़ाई अभी जारी है। भारत सरकार ने शुरुआती समीक्षा के ज़रिए लोगों को कोरोना के सक्रमण से बचने की कुछ सलाह दी है लेकिन अगर भारत मे केस बढ़ते हैं तो सख्ती के लिए तैयार रहना होगा।

    [आईएएनएस इनपुट के साथ]

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.