मनीष सिसोदिया के समर्थन में बैनर लगाने पर दिल्ली के स्कूल के खिलाफ केस दर्ज!

    लोगों ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद शास्त्री पार्क पुलिस स्टेशन में दिल्ली संपत्ति विरूपण निवारण अधिनियम की धारा 3 के तहत मामला दर्ज किया गया।

    0
    262
    मनीष सिसोदिया के समर्थन में बैनर लगाने पर दिल्ली के स्कूल के खिलाफ केस दर्ज!
    मनीष सिसोदिया के समर्थन में बैनर लगाने पर दिल्ली के स्कूल के खिलाफ केस दर्ज!

    आई लव मनीष सिसोदिया…मामला दर्ज!

    दिल्ली पुलिस ने दिल्ली सरकार के एक स्कूल के खिलाफ गेट पर ‘आई लव मनीष सिसोदिया‘ का बैनर लगाने पर केस दर्ज किया है। शनिवार को पूर्वोत्तर दिल्ली के शास्त्री पार्क इलाके (शास्त्री पार्क) में स्थानीय निवासियों ने शुक्रवार सुबह बैनर लगाए जाने का विरोध किया था। इसके बाद लोगों ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी। इसके बाद शास्त्री पार्क पुलिस स्टेशन में दिल्ली संपत्ति विरूपण निवारण अधिनियम की धारा 3 के तहत मामला दर्ज किया गया।

    इस मामले को लेकर एक स्थानीय निवासी दिवाकर पांडे ने पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी। शिकायतकर्ता दिवाकर पांडे ने बताया कि 3 मार्च को सुबह 8.30 बजे के करीब आम आदमी पार्टी (आप) के कुछ कार्यकर्ता शास्त्री पार्क में सरकारी स्कूल के गेट के ऊपर एक बैनर लगा रहे थे। सबसे पहले, उन्होंने स्कूल से एक डेस्क निकाली और उसे बाहर लाकर उस पर चढ़ गए और गेट पर ‘आई लव मनीष सिसोदिया’ का पोस्टर लगाने लगे, जिस पर लोगों ने आपत्ति जताई और कहा कि यह शिक्षा का मंदिर है, इसे राजनीति से दूर रखो।

    शिकायतकर्ता दिवाकर ने बताया कि जब हमने बैनर लगाने वालों से पूछा कि क्या उनके पास अनुमति है तो उन्होंने खुद को विधायक अब्दुल रहमान से संबंधी होने का दावा किया। इसके बाद एक शख्स ने विधायक से संपर्क किया और उनसे पूछा कि क्या उन्होंने इजाजत दी है, तो विधायक ने हां में जवाब दिया। हम जानते हैं कि विधायक झूठ बोल रहा है, क्योंकि किसी राजनीतिक लाभ के लिए किसी स्कूल का इस्तेमाल करने की अनुमति कभी नहीं दी जाती है।

    शिकायतकर्ता ने बताया कि लोगों के विरोध करने पर बैनर हटा दिया गया। उन्होंने कहा कि समस्या यह है कि बच्चों से ‘आई लव मनीष सिसोदिया’ लिखवाया गया। हमारी संस्कृति इन सब चीजों की इजाजत नहीं देती है। उन्होंने आरोप लगाया कि वे बच्चों का ब्रेनवॉश करने की कोशिश कर रहे हैं। हमने प्रिंसिपल से पूछा, लेकिन वह मामले की गंभीरता को समझ नहीं पाई, इसके बाद मैंने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।

    [आईएएनएस इनपुट के साथ]

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.