शिंदे सरकार का आरोप- पूर्व सीएम ने उमेश कोल्हे हत्याकांड मामले को दबाने की कोशिश की

    सत्ता में आने के बाद से शिंदे सरकार की ठाकरे परिवार के खिलाफ यह तीसरी जांच

    0
    196
    महाराष्ट्र सरकार उमेश कोल्हे हत्याकांड मामले में कराएगी उद्धव ठाकरे के फोन कॉल की जांच
    महाराष्ट्र सरकार उमेश कोल्हे हत्याकांड मामले में कराएगी उद्धव ठाकरे के फोन कॉल की जांच

    महाराष्ट्र सरकार उमेश कोल्हे हत्याकांड मामले में कराएगी उद्धव ठाकरे के फोन कॉल की जांच

    महाराष्ट्र की एकनाथ शिंदे सरकार अमरावती के व्यापारी उमेश कोल्हे हत्याकांड में उस समय के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के फोन कॉल की जांच कराएंगी। कैबिनेट मंत्री शुभूराज देसाई ने विधानसभा में इसकी घोषणा की। मौजूदा सरकार का आरोप है कि उद्धव सरकार ने उमेश कोल्हे हत्याकांड को दबाने की कोशिश की थी। बता दें कि सत्ता में आने के बाद से शिंदे सरकार की ठाकरे परिवार के खिलाफ यह तीसरी जांच है।

    दरअसल, शुक्रवार को विपक्ष ने विधानसभा की बैठक का बहिष्कार किया था। इस दौरान विधानसभा में बीजेपी के विधायक ही शामिल हुए थे। जिसमें अमरावती के विधायक रवि राणा ने उमेश कोल्हे की हत्या का मुद्दा उठाया। शुभूराज देसाई ने कहा कि उद्धव ने पुलिस को निर्देश दिए थे कि उमेश कोल्हे हत्याकांड की चोरी के नजरिए से जांच करे।

    उन्होंने बताया कि सांसद राणा और मैंने अमित शाह को मामले की जानकारी दी थी, इसके बाद उन्होंने मामले की जांच एनआईए को सौंप दी। उन्होंने ने कहा कि नुपुर शर्मा और हिंदुत्व के समर्थन में पोस्ट करने पर भरे चौराहे पर कोल्हे की हत्या की गई थी।

    रवि राणा ने इस मामले की एसआईटी जांच कराने की मांग की है। शंभूराज देसाई ने कहा कि राज्य के खुफिया विभाग की रिपोर्ट और उद्धव ठाकरे के फोन कॉल की जांच के बाद उचित फैसला लिया जाएगा।

    महाराष्ट्र के अमरावती में 21 जून 2022 की रात मेडिकल शॉप चलाने वाले उमेश कोल्हे की बीच सड़क पर गला काटकर हत्या कर दी गई थी। 54 साल के उमेश की न किसी से दुश्मनी थी, न रंजिश। ये वो वक्त था, जब बीजेपी की प्रवक्ता नूपुर शर्मा की पैंगबर मोहम्मद पर टिप्पणी को लेकर बवाल चल रहा था।

    छानबीन में सामने आया था कि उमेश कोल्हे ने भी नूपुर के समर्थन में दोस्तों के एक वॉट्सऐप ग्रुप में पोस्ट सेंड कर दी थी। यहीं से तार जुड़ते गए, पुलिस ने जांच शुरू की जो एटीएस से होते हुए एनआईए के पास आई। जांच में सामने आया कि उमेश के 16 साल पुराने डॉक्टर दोस्त यूसुफ ने ही 10 और लोगों के साथ मिलकर इस कत्ल की साजिश रची थी।

    [आईएएनएस इनपुट के साथ]

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.