दो साल का आखरी मौका: मोदी चाहे तो अब भी बन सकते हैं महानतम प्रधानमंत्री

तीन वर्ष हो गए हैं, लेकिन मोदी एक बड़ी निराशा साबित हुए हैं।

0
1632

मोदी के कार्यालय में दो साल से थोड़ा कम समय बचा है लेकिन वे अब भी अद्भुत कार्य कर सकते हैं और इतिहास में सर्वश्रेष्ठ प्रधानमंत्री के रूप में अपना नाम दर्ज करा सकते हैं।

तीन साल पहले जब मैंने टेलीविजन पर सबसे शक्तिशाली कार्यालय संभालने जा रहे मोदी को संसद के कदमों को चूमते हुए देखा तो खुशी की आँसू मेरे गालों में लुढ़क गए थे। मैंने खुद को बोला था “यह कट्टर देशभक्त है जो मेरे देश के लिए महान कार्य करने जा रहा है।” लेकिन इन तीन सालों में मोदी एक बहुत बड़ी निराशा साबित हुए हैं। आर्थिक विकास का हर प्रमुख सूचकांक गिरावट दर्शा रहा है। बैंकिंग प्रणाली एक ऐतिहासिक गड़बड़ से जूझ रही है। पीएसयू बैंकों में पूंजी का मैकेनिकल इन्वेस्टमेंट केवल जमानत से बाहर होगा, फिलहाल, भ्रष्टाचार और सुस्ती के इन भव्य संस्थानों। विनिर्माण क्षेत्र और निर्यात क्षेत्र उत्साहहीन हैं। बेरोजगारी बढ़कर पहले कभी ना देखे गए स्तर पर पहुंच गई है। नोटबंदी से असंगठित क्षेत्र को टायसोनिक रूपी झटका लगा था, जिससे यह अभी तक नहीं उभर पाया है। अप्रत्याशित और अजीब तरीके से लागू की गई जीएसटी व्यवस्था ने पूरे व्यापारिक समुदाय को बुरी तरह प्रभावित किया। व्यापारियों के खिलाफ प्रवर्तन एजेंसियों के लगातार उपयोग ने उनके दिमाग में आतंक का माहौल बना दिया है। दरअसल, मोदी को अपने ही लोगों के खिलाफ युद्ध का बिगुल बजाने वाले प्रधानमंत्री के रूप में माना जाने लगा है। भ्रष्टाचार के मोर्चे पर, पिछली सरकार जाने के बाद से अब तक कोई बदलाव नहीं हुआ है। आरएसएस समर्थित स्वयंसेवक जागरण मंच ने लोकप्रिय मनोदशा को दर्शाया, जब उन्होंने टिप्पणी की कि मोदी सरकार “यूपीए III शासन” से ज्यादा कुछ नहीं है।

यह एक अत्यंत हानिकारक वक्तव्य है और वह भी उस संगठन से जो संघ परिवार का एक महत्वपूर्ण घटक है।

लेकिन क्या यह मोदी के लिए सड़क का अंत है? मेरा यह उत्तर है ‘नहीं’। उनके कार्यकाल के लगभग दो साल बचे हुए हैं। वह अब भी अद्भुत काम कर सकते हैं और इतिहास में महानतम प्रधान मंत्री के रूप में अपना नाम दर्ज करा सकते हैं।

हमारे व्यापारियों के उदार उद्यमी कौशल के लिए रेड कार्पेट बिछाइए और देखिए वे देश को बिना विलंब चीन से आगे निकलने में मदद करेंगे।

पहला कार्य जिसे करने की ज़रूरत है वह है काले धन की जड़ों में जाने की आवश्यकता। काले धन का निर्माण होता है क्योंकि व्यापारी अपनी जगह सही हैं जो कराधान के वर्तमान स्तर को एक जबरन वसूली के रूप में देखते हैं। यदि टैक्स की वर्तमान दर को आधी करके 15% कर दिया जाए तो मुझे यकीन है कि कर अनुपालन बढ़ेगा और इससे राजस्व में तीव्र वृद्धि होगी। अपने लोगों पर भरोसा करें। हमारे व्यापारियों की उदार उद्यमशीलता कौशल को अनलॉक करें और देखो फिर अपने ये शेर कैसे दहाड़ते हैं। उनके लिए रेड कार्पेट बिछाइए और वे देश को बिना समय गंवाए चीन से आगे निकलने में मदद करेंगे।

पार्टिसिपेट्री नोट्स, मॉरीशस मार्ग आदि को समाप्त करके और विदेशों और देश के अंदर छुपे धन के लिए एक वास्तविक ” कोई सवाल नहीं”” एमनेस्टीे स्कीम की घोषणा कीजिए। खुलासा होने वाली अरबों रुपए की धनराशि के लिए एक सीमित अवधि रखिए और फिर उस धनराशि का उपयोग हजारों भारतमाला योजनाओं, रेलवे का उन्नयन आदि को लागू करने के लिए करिए, फिर देखिए अर्थव्यवस्था पहले कभी ना देखी गई ऊंचाई पर जाएगी। जैसे डॉ स्वामी का कहना है कि जीएसटी की सिर्फ एक दर 8% रखी जाए जो सभी के लिए जीत की स्थिति होगी।

मोदी को ली कुआं और देंग जिओ पिंग जैसे नज़रिए की आवश्यकता है। अंततः अंबानी और अदाणी के मुकाबले देश ज्यादा महत्वपूर्ण जो है।


Note:
1. Text in Blue points to additional data on the topic.
2. The views expressed here are those of the author and do not necessarily represent or reflect the views of PGurus.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.