कोरोना संकट के दौरान वामपंथी दलों का पाखंड और कपट उजागर हुआ

वाम पार्टियां को एक और बार विपरीत मानकों को लागू करते हुए पकड़ी गई हैं, एक ओर सरकार द्वारा वेतन रोकने की सराहना और साथ ही निजी क्षेत्र की आलोचना!

0
571
वाम पार्टियां को एक और बार विपरीत मानकों को लागू करते हुए पकड़ी गई हैं, एक ओर सरकार द्वारा वेतन रोकने की सराहना और साथ ही निजी क्षेत्र की आलोचना!
वाम पार्टियां को एक और बार विपरीत मानकों को लागू करते हुए पकड़ी गई हैं, एक ओर सरकार द्वारा वेतन रोकने की सराहना और साथ ही निजी क्षेत्र की आलोचना!

पाखंड और वाम दलों की नीतियां एक ही थैले के चट्टे बट्टे हैं। भारत के एकमात्र वाम शासित राज्य केरल ने बुधवार को पांच किस्तों में कर्मचारियों के 30 दिनों के वेतन में कटौती के लिए अध्यादेश पारित किया, केरल उच्च न्यायालय द्वारा वेतन कटौती पर राज्य मंत्रिमंडल के कदम पर रोक लगाने के एक दिन बाद। दिलचस्प बात यह है कि वही पार्टी और उनके प्रवक्ता कोविड-19 संकट के कारण केंद्र सरकार के नए घोषित महंगाई भत्ते को रोकने के कदम के कारण और निजी कम्पनियों के वेतन कटौती को लागू करने के लिए वाक्पटु हो जाएंगे और आपत्ति करेंगे।

मंगलवार, 28 अप्रैल, 2020 को, केरल के उच्च न्यायालय ने राज्य के वेतन कटौती को प्रथम दृष्टया गलत करार दिया और आदेश पर रोक लगा दी। केरल सरकार की दलीलें (झूठी) कि उन्हें आपदा प्रबंधन अधिनियम के लागू होने पर वेतन में कटौती का अधिकार है, को खारिज कर दिया गया[1]

इस खबर को अंग्रेजी में यहाँ पढ़े।

अज्ञान या अहंकार?

कम्युनिस्टों का पाखंड और कपट तब उजागर हुआ जब अगले ही दिन केरल सरकार ने वेतन कटौती पर हाई कोर्ट के आदेश को विफल करने के लिए एक अध्यादेश पारित करने का फैसला किया[2]। अध्यादेश लाने का यह कदम उच्च न्यायालय के समक्ष मामला लंबित होने पर उनके अहंकार या कानूनी ज्ञान की कमी को दर्शाता है। हाईकोर्ट ने केवल कर्मचारी संघों की याचिका पर रोक (स्टे) लगाई है और मामले में पूरी तरह से निर्णय नहीं हुआ है। कर्मचारी संघ और विपक्षी दल कांग्रेस और भाजपा कम्युनिस्ट नियंत्रित केरल सरकार के अहंकार के खिलाफ सामने आए हैं।

राहत कार्य पर ध्यान दें

हाल ही में विजयन सरकार को ऑस्ट्रेलिया में एक प्रदर्शन पटल (डिस्प्ले बोर्ड) पर मुख्यमंत्री पिनारयी विजयन का नाम प्रदर्शन करके नकली सार्वजनिक प्रचार के लिए पकड़ा गया था[3]। राहत और पुनर्वास कार्यों पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय, केरल सरकार को बिकाऊ मीडिया व्यक्तियों का उपयोग करके विदेशी समाचार पत्रों में छवि चमकाने वाली कहानियों को रोपते हुए देखा गया। केरल के सीएम को कोविड-19 रोगियों के डेटा एकत्र करने के लिए अमेरिका स्थित एक कम्पनी स्प्रिंकलर को अनुमति देने पर भी विवाद का सामना करना पड़ रहा है। यह भी एक और पाखंड है जब वामपंथी दल आधार कार्ड और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के माध्यम से केंद्र सरकार द्वारा डेटा संग्रह का विरोध करते हैं। विपक्षी दलों ने अब मुख्यमंत्री विजयन की बेटी वीना की कम्पनी पर यूएस-आधारित कंपनी स्प्रिंकलर के साथ संबंध का आरोप लगाया[4]

संदर्भ:

[1] High Court stays Kerala’s move to defer salaries of state government employeesApr 28, 2020, LiveMint.com

[2] After HC stay order, Kerala govt brings out ordinance to enforce salary cutApr 29, 2020, Business Standard

[3] केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन की छवि चमकाने के लिए ओछी चालें का पर्दाफाशApr 22, 2020, hindi.pgurus.com

[4] केरल के मुख्यमंत्री विजयन पर कोविड-19 रोगियों के डेटा को अमेरिकी कम्पनी के साथ साझा करने और उनकी बेटी की कम्पनी के सम्बंध का आरोप हैApr 26, 2020, hindi.pgurus.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.