विदेशमंत्री जयशंकर का राहुल गांधी पर तंज- 1962 में किया चीन ने कब्जा, लोग जानबूझकर गलत जानकारी फैला रहे!

    सिंधु नदी जल समझौते (आईडब्ल्यूटी) को लेकर कहा कि यह एक तकनीकी मामला है और दोनों देशों के सिंधु आयुक्त इस मुद्दे पर एक-दूसरे से बात करेंगे।

    0
    190
    विदेशमंत्री एस जयशंकर का राहुल गांधी पर तंज- 1962 में हुआ चीन का कब्जा
    विदेशमंत्री एस जयशंकर का राहुल गांधी पर तंज- 1962 में हुआ चीन का कब्जा

    विदेशमंत्री ने कहा कुछ लोग भारत के हिस्सों पर चीन के कब्जे की बातें करते हैं, लेकिन वे आपको कभी सच नहीं बताएंगे

    विदेशमंत्री एस जयशंकर ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर कटाक्ष करते हुए शनिवार को कहा कि कुछ लोग जानबूझकर चीन मुद्दे के बारे में गलत जानकारी फैला रहे हैं। जयशंकर ने कहा कि ‘1962 में चीन ने भारत की जमीन पर कब्जा कर लिया था, जबकि कुछ लोग ऐसा बताते हैं कि यह हाल ही में हुआ है। यहां पुणे में अपनी किताब ‘द इंडिया वे’ के मराठी अनुवाद ‘भारत मार्ग’ के विमोचन के मौके पर जयशंकर ने सवाल-जवाब सत्र के दौरान यह बात कही।’

    एस जयशंकर ने भारत-पाकिस्तान के बीच सिंधु नदी जल समझौते (आईडब्ल्यूटी) को लेकर कहा कि यह एक तकनीकी मामला है और दोनों देशों के सिंधु आयुक्त इस मुद्दे पर एक-दूसरे से बात करेंगे। भारत-चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में सैन्य गतिरोध को लेकर कुछ लोगों या राजनीतिक दलों के नेताओं के भारत सरकार पर विश्वास की कमी के बारे में पूछे जाने पर विदेशमंत्री ने कहा कि ‘विपक्ष में कुछ लोग हैं, जिनकी ऐसी सोच है, जिसे समझना उनके लिए बेहद मुश्किल है।’ हालांकि, उन्होंने कहा कि कभी-कभी ऐसे लोग जानबूझकर चीन के बारे में गलत खबरें या जानकारी फैलाते हैं।

    जयशंकर ने कहा, ‘अगर आप पूछना चाहते हैं कि उन्हें भरोसा क्यों नहीं है, वे लोगों को गुमराह क्यों कर रहे हैं, चीन के बारे में गलत खबर क्यों फैला रहे हैं? मैं इन सवालों का जवाब कैसे दे सकता हूं? क्योंकि मैं जानता हूं कि वे भी राजनीति कर रहे हैं। कभी-कभी वे जानबूझकर ऐसी खबरें फैलाते हैं और वे जानते हैं कि यह सच नहीं है।’ विदेशमंत्री ने किसी का नाम लिए बिना कहा, ‘कभी-कभी वे कुछ जमीन की बात करते हैं, जिसे चीन ने 1962 में ले लिया था। लेकिन वे आपको सच नहीं बताएंगे। वे आपको यह आभास कराएंगे कि यह घटना कल ही हुई थी।’

    [आईएएनएस इनपुट के साथ]

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here

    This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.