बंगाल में नहीं है लोकतंत्र, पुलिस के साथ मिलकर पड़ रहा है छप्पा वोट – भाजपा का बड़ा आरोप

पूरे बंगाल में अराजकता का माहौल है। उन्होंने कहा कि इसीलिए भाजपा पहले से ही कोलकाता नगर निगम चुनाव में केंद्रीय बलों की तैनाती की मांग कर रही थी

0
485
बंगाल में नहीं है लोकतंत्र, पुलिस के साथ मिलकर पड़ रहा है छप्पा वोट - भाजपा का बड़ा आरोप
बंगाल में नहीं है लोकतंत्र, पुलिस के साथ मिलकर पड़ रहा है छप्पा वोट - भाजपा का बड़ा आरोप

बंगाल केएमसी चुनाव : भाजपा ने टीएमसी पर लगाया अराजकता फैलाने का आरोप

कोलकाता नगर निगम (केएमसी) के सभी 144 वार्ड में रविवार सुबह सात बजे से कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच मतदान जारी है। कई जगहों से छिटपुट हिंसा की भी खबरें लगातार सामने आ रही है। इस बीच बंगाल में मुख्य विपक्षी भाजपा के प्रदेश इकाई के उपाध्यक्ष प्रताप बनर्जी ने सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) व कोलकाता पुलिस पर बड़ा आरोप लगाया है।

पत्रकारों से बात करते हुए बनर्जी ने कहा कि बंगाल में कोई लोकतंत्र नहीं है। पुलिस के साथ मिलकर सुबह से ही विभिन्न जगहों पर छप्पा वोट पड़ रहा है। उन्होंने यह भी दावा किया कि 22 नंबर वार्ड से भाजपा प्रत्याशी मीना देवी पुरोहित का सुबह में पुलिस के सामने कपड़े फाड़ दिए गए और उनके साथ मारपीट की गई। यह सब कुछ पुलिस के सामने हुआ और वह मूकदर्शक बनी रही।

भाजपा नेता ने कहा कि पूरे बंगाल में अराजकता का माहौल है। उन्होंने कहा कि इसीलिए भाजपा पहले से ही कोलकाता नगर निगम चुनाव में केंद्रीय बलों की तैनाती की मांग कर रही थी। बनर्जी ने कहा कि बंगाल में इससे पहले हुए चुनावों में किस तरह की हिंसा और अराजकता हुई यह पूरा देश जानता है। उन्होंने जोर देकर कहा कि बंगाल में ममता बनर्जी के शासन में कोई लोकतंत्र नहीं है।

जानकारी हो कि कोलकाता नगर निगम (केएमसी) के 144 वार्डों के लिए पुलिस सुरक्षा के बीच मतदान चल रहा है। कोलकाता नगर निगम (केएमसी) के सभी 144 वार्ड में रविवार सुबह सात बजे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था और कोविड-19 दिशा-निर्देशों के सख्ती से पालन के बीच मतदान शुरू हुआ। सुबह से ही मतदाताओं ने मतदान केंद्रों पर पहुंच कर वोट डालना शुरू कर दिया। मतदान के लिए लोग अपने-अपने बूथों पर पहुंच रहे हैं। मतदान के मद्देनजर सुरक्षा के चाक-चौबंद इंतजाम किए गए हैं। पूरे कोलकाता और आसपास के शहरों में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.